Books on Hinduism

Books on Hinduism

504 products

Showing 49 - 72 of 504 products
View
I Am All: Cosmic Vision of Man
I Am All: Cosmic Vision of Man
SPECIFICATION:
  • Publisher : Chetana Book
  • By : Sudhakar S. Dikshit
  • Cover : Hardcover
  • Language : English
  • Edition : 1989
  • Pages : 172
  • Weight : 450 gm.
  • ISBN-10: 8185300305
  • ISBN-13 : 978-8185300306
DESCRIPTION:

A prolific writer in his own right, Sudhkar Dikshit (1909-1995) was an internationally respected editor and publisher of numerous works on the Eastern philosophy including
‘I Am That’, a celebrated spiritual classic.

I Am All explores the human being as a microcosm of the cosmos whose true enlightenment comes only by transcending the notion of separateness from things and events in the world.

$22
Explorations into the Eternal: Forays from the Teaching of Nisargadatta Maharaj
Explorations into the Eternal: Forays from the Teaching of Nisargadatta Maharaj
SPECIFICATION:
  • Publisher : Chetana Book
  • By : Ramesh S. Balsekar (Author), Sudhakar S. Dikshit (Editor)
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 1997
  • Pages : 262
  • Weight : 340 gm.
  • Size : 6.25 x 0.75 x 9.25 inches
  • ISBN-10: 8185300275
  • ISBN-13 : 978-8185300276
DESCRIPTION:

In this volume, Ramesh Balsekar reaches beyond the communication of the past knowledge to a creative exploration of the teaching of his guru, Sri Nisargadatta Maharaj, inspired by the thirst of other seekers for enlightenment. In his contemplations upon the sentience of the human spirit, Balsekar has used Maharaj’s wisdom as the touchstone for his own ventures into the realm of conscious and unconscious

$24
Experience of Immortality
Experience of Immortality
SPECIFICATION:
  • Publisher : Chetana Book
  • By : Ramesh S Baleskar
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 1997
  • Pages : 287
  • Weight : 500 gm.
  • ISBN-10: 8185300569
  • ISBN-13 : 978-8185300566
DESCRIPTION:

This is an English translation of a Marathi classic Amritanubhava by Jnaneshwar, a thirteenth century
saint – poet of Maharastra,India .This is one of the earliest texts of Advaita Vedanta.

“Amritanubhava is perhaps the brightest gem among the Advaita classics, brilliantly expounded here
by Balsekar in his illuminating commentary in the light of his master ,Sri Nisargadatta Maharaj”.– Editor

$22
Aham Brahmasmi [Paperback]
Aham Brahmasmi [Paperback]
SPECIFICATION:
  • Publisher : Chetana Book
  • By : Sudhakar Dikshit
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 2001
  • Pages : 720
  • Weight : 1.600 kg.
  • ISBN-10: 8185300550
  • ISBN-13: 978-8185300559
$35
Vedanta For All [Paperback]
Vedanta For All [Paperback]
SPECIFICATION:
  • Publisher : Ramakrishna Math
  • By : Swami Satprakashananda (Author), Ray Ellis (Editor)
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 2001
  • Pages : 277
  • Weight : 200 gm
  • Size : 4.7 x 0.5 x 7 inches
  • ISBN-10 : 8171209343
  • ISBN-13 : 978-8171209347
DESCRIPTION:
Swami Satprakashananda was a lecturer and author for almost four decades in America. The present volume is a collection of his class talks on different aspects of Vedanta.
In an almost conversational tone he discusses such topics as:
The role of the spiritual teacher,
The aura of meditation,
The dichotomy of good and evil,
The reconciliation between Divine Grace and the Law of Karma,
The significance of spiritual visions,
The power of mantras, and
What happens after death.
$18
Meditation by Monks of the Ramakrishna Order
Meditation by Monks of the Ramakrishna Order
SPECIFICATION:
  • Publisher : Advaita Ashrama
  • By : Monks of the Ramakrishna Order
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 2009
  • Pages : 214
  • Weight : 210 gm
  • Size : 5.5 x 0.5 x 8.5 inches
  • ISBN-10 : 817120046X
  • ISBN-13 : 978-8171200467
DESCRIPTION:
A fine introductory book on the practice of meditation. Collected from the works of senior swamis with many years of experience in the West. --- From the Table of Contents:Living the Mature Way ...Before You Sit In Meditation ...The Yoga of Consciousness ...Lessons in Meditation ...The Science of Mantra ...The Repetition of the Name of God ...The Trained Mind ... The Way of Meditation
$19
Songs of Bhaktivinoda Thakura Saranagati Surrender [Hardcover]
Songs of Bhaktivinoda Thakura Saranagati Surrender [Hardcover]
SPECIFICATION:
  • Publisher : RASBIHARI LAL & SONS
  • By : SRILA BHAKTIVINODA THAKURA
  • Cover : Hardcover
  • Language : English
  • Edition : 2004
  • Pages : 181
  • Weight : 500 gm
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10 : 8187812664
  • ISBN-13 : 978-8187812661
DESCRIPTION:
Introduction : As Prarthana and Prema Bhakti Candrika of Sri Narottama dasa Thakura are widely known, resepected, and relished by the Caudiya Vaisnavas, so are the songs of Srila Bhaktivinoda Thakura. These songs are not only beneficial for the gross materalists and practitioners of devotional service. They are also relished by the exalted souls who have attained perfection. The songs composed by Srila Bhaktivinoda Thakura are very instructive and practical for people of all ages, of all castes, and of all religions. The songs of Sri Narottamadasa Thakura are especially meant for devotees who are cultivating devotional service, but Srila Bhaktivinoda Thakura has songs are intended for all classes of people. By means of these songs, he hopes to attract everyone to the path of devotional service. Srila Bhaktivinoda Thakura has written countless songs. These songs are divided into four books called Kalyana Kalpataru, Saranagati, Gitavali and Gitamala.
Srila Bhaktivinoda Thakura's songs are proof of his cause-less mercy upon the fallen souls of the entire world. We pray that the faithful readers will relish these songs, attain spiritual realization, and ultimately go back to Godhead.
$28
Vishnu Ke Saat RahasyaVishnu Ke Saat Rahasya
Vishnu Ke Saat Rahasya
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajpal and Sons 
  • By: Devdutt Pattanaik (Author)
  • Binding :Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition :2015
  • Pages: 224 pages
  • Size : 20 x 14 x 4 cm
  • ISBN-10: 9350642409
  • ISBN-13: 9789350642405

DESCRIPTION: 

हिन्दू धर्म में त्रिमूर्ति के तीन देवताओं में से एक विष्णु हैं जिन्हें जग का पालनकर्ता भी कहा जाता है। पौराणिक ग्रंथों में विष्णु को दस अवतारों वाला दशावतार माना गया है और श्रीराम और श्रीकृष्ण उनके सबसे प्रमुख अवतार हैं। विष्णु का निवास दो अलग-अलग जगहों पर है: दुनिया से दूर बैकुंठ में, और दूसरा क्षीर-सागर में जहाँ पर वह अनन्त शेष पर विराजमान हैं। भगवद्गीता में विष्णु को विश्वरूप या विराटपुरुष भी माना गया है; इस जग पर अपना पूरा ध्यान केन्द्रित किए सदा प्रसन्न दिखने वाले विष्णु की चार बाँहें हैं जिनमें उन्होंने कमल का फूल, गदा, शंख और सुदर्शन-चक्र पकड़ रखा है। चार हाथों में पकड़ी अलग-अलग वस्तुओं का क्या रहस्य है? उनके पाँच अस्त्र भी हैं, उनका क्या महत्त्व है? विष्णु को मोक्ष या मुक्ति दिलाने वाला मुकुन्द क्यों कहा जाता है? जानिए इन सब रहस्यों को-इस रोचक पुस्तक में। देवदत्त पटनायक पौराणिक विषयों के जाने-माने विशेषज्ञ हैं। पौराणिक कहानियों, संस्कारों और रीति-रिवाज़ों का हमारी आधुनिक ज़िन्दगी में क्या महत्त्व है, इस विषय पर वह लिखते भी हैं और जगह-जगह व्याख्यान भी देते हैं। इनकी तीस से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं और टीवी पर इनका कार्यक्रम भी दिखाया जाता है। शिव के सात रहस्य, शिखण्डी और कुछ अनसुनी कहानियाँ, देवी के सात रहस्य, पशु, भारतीय पौराणिक कथाएँ, भारत में देवी, शिव से शंकर तक और सीता के पाँच निर्णय उनकी अन्य बहुचर्चित पुस्तकें हैं।

                          $19
                          Sita Ke Paanch NirnaySita Ke Paanch Nirnay
                          Sita Ke Paanch Nirnay
                          SPECIFICATION:
                          • Publisher : Rajpal and Sons 
                          • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                          • Binding :Paperback
                          • Language : Hindi
                          • Edition :2017
                          • Pages: 128 pages
                          • Size : 20 x 14 x 4 cm
                          • ISBN-10: 93506438810
                          • ISBN-13: 9789350643884

                          DESCRIPTION: 

                          रामायण मर्यादा पुरुषोत्तम श्रीराम की गाथा मानी जाती है और उन्हीं को महिमामंडित करती है। भारत से लेकर दक्षिण-पूर्व के दूर-दराज के देशों में रामायण अनेक भाषाओं में उपलब्ध है और हरेक में कुछ अन्तर है, लेकिन सभी मुख्यता श्रीराम को केन्द्र में रखकर लिखी गई हैं। शायद यह पहली बार है कि रामायण की कथा सीता के दृष्टिकोण से बतायी गयी है। देवदत्त पट्टनायक की यह पुस्तक रामायण पर आधारित अनूठी कृति है जिसे पढ़कर अहसास होता है कि रामायण में सबसे महत्त्वपूर्ण भूमिका शायद सीता की थी और पाठक के मन में सीता की एक नयी छवि उजागर होती है - अपनी स्वतन्त्र सोच और स्वयं निर्णय करने की हिम्मत रखने वाली सीता की, जबकि जनसाधारण में यह विश्वास है कि सीता वही करती थीं जो श्रीराम कहते थे।

                                                  $15
                                                  Shiv Se Shankar TakShiv Se Shankar Tak
                                                  Shiv Se Shankar Tak
                                                  SPECIFICATION:
                                                  • Publisher : Rajpal and Sons 
                                                  • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                                                  • Binding :Paperback
                                                  • Language : Hindi
                                                  • Edition :2016
                                                  • Pages: 160 pages
                                                  • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                  • ISBN-10: 9350642638
                                                  • ISBN-13: 9789350642634

                                                  DESCRIPTION: 

                                                  प्रखर तपस्वी शिव, हिन्दू धर्म के सर्वाधिक पूजे जाने वाले देवता हैं। शरीर पर शेर की खाल ओढ़े, सिर पर जटाएँ बाँधे, गर्दन में एक साँप लपेटे दूर-दराज़ के ठंडे और वीरान कैलाश पर्वत पर रहने वाले शिव के कई रूप हैं। कहीं तो वह कैलाश पर्वत पर धूनी रमाये योगी का रूप लेते हैं और कहीं अपनी पत्नी पार्वती के साथ गृहस्थ का रूप धारण करते हैं। हिन्दुओं के लिए शिव अति पूजनीय हैं और उनकी आराधना का सबसे लोकप्रिय प्रतीक रूप है शिवलिंग। क्या यह शिवलिंग मात्र एक यौन का प्रतीक है - कई विद्वानों का तो ऐसा ही मानना है, किन्तु कई इससे सहमत नहीं हैं। शिव के लिंग रूप के यथार्थ का केन्द्र है यह पुस्तक। इस लिंग रूप प्रतीक के आध्यात्मिक संकेतों और अर्थों को समझने के लिए शिव-भक्ति के साथ जुड़े सभी कर्मकांड, प्रतीक और कथाओं के गहन शोध के बाद आम पाठक के लिए प्रस्तुत है यह अति रोचक और ज्ञानवर्धक पुस्तक

                                                                          $19
                                                                          Shiv Ke Saat RahasyaShiv Ke Saat Rahasya
                                                                          Shiv Ke Saat Rahasya
                                                                          SPECIFICATION:
                                                                          • Publisher : Rajpal and Sons 
                                                                          • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                                                                          • Binding :Paperback
                                                                          • Language : Hindi
                                                                          • Edition :2015
                                                                          • Pages: 232 pages
                                                                          • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                          • ISBN-10: 9350642395
                                                                          • ISBN-13: 9789350642399

                                                                          DESCRIPTION: 

                                                                          हिन्दुओं के अनगिनत देवी-देवताओं में से शिव सबसे अधिक लोकप्रिय हैं। महादेव के नाम से भी जाने जानेवाले शिव, विष्णु और ब्रह्मा के साथ हिन्दू देवताओं के त्रिमूर्ति माने जाते हैं। शिव के अनेक रूप हैं: कहीं तो वह कैलाश पर्वत की बर्फ़ीली चोटी पर बैठे अपने पर नियंत्रण रखनेवाले एक ब्रह्मचारी योगी हैं जो दुनिया का विनाश करने की क्षमता रखते हैं तो दूसरी ओर अपनी पत्नी और पुत्रों के साथ गृहस्थ आश्रम का आनन्द भोगते हुए गृहस्थ हैं। इनमें से कौन-सा है शिव का वास्तविक रूप? माथे पर तीसरी आँख, गर्दन में सर्प, शीश पर अर्द्धचन्द्र, केशों से बहती गंगा और हाथों में त्रिशूल और डमरू-इन सब प्रतीकों का क्या अर्थ है? शिव के अनेक रूप और प्रतीकों के पीछे छिपे हैं हमारे पौराणिक अतीत के अनेक रहस्य जिनमें से सात को समझने का प्रयास इस पुस्तक में किया गया है। देवदत्त पट्टनायक पौराणिक विषयों के जाने माने विशेषज्ञ हैं। पौराणिक कहानियों, संस्कारों और रीति-रिवाजों का हमारी आधुनिक ज़िन्दगी में क्या महत्त्व है इस विषय पर वह लिखते भी हैं और जगह-जगह व्याख्यान भी देते हैं। इनकी पन्द्रह से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं और टीवी पर इनका कार्यक्रम भी दिखाया जाता है।

                                                                                                  $19
                                                                                                  ShikhandiShikhandi
                                                                                                  Shikhandi
                                                                                                  SPECIFICATION:
                                                                                                  • Publisher : Rajpal and Sons 
                                                                                                  • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                                                                                                  • Binding :Paperback
                                                                                                  • Language : Hindi
                                                                                                  • Edition :2015
                                                                                                  • Pages: 190 pages
                                                                                                  • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                  • ISBN-10: 9350642891
                                                                                                  • ISBN-13: 9789350642894

                                                                                                  DESCRIPTION: 

                                                                                                  असामान्य यौनप्रवृत्ति कोई आधुनिक या पश्चिमी बात नहीं है। दो हज़ार वर्षों से भी पुरानी हिन्दुत्व की विशाल मौखिक और लिखित परम्पराओं में असामान्य यौनप्रवृत्ति की कई कथाएँ और उदाहरण पाए जाते हैं, जैसे महाभारत में शिखण्डी जो अपनी पत्नी को सन्तुष्ट करने के लिए पुरुष बना; या फिर महादेव जो इसलिए स्त्री बने ताकि अपने भक्त के बच्चे को जन्म दे सकें; या चूडाला जो अपने पति को ज्ञान देने के लिए पुरुष बनी-ये और ऐसी अनेक कथाएँ इस पुस्तक में प्रस्तुत हैं। दिलचस्प और हृदयस्पर्शी, यहाँ तक कि उद्विग्नता पैदा करने वाली, ये कथाएँ इस बात की साक्षी हैं कि हमारे देश में असामान्य यौनप्रवृत्ति की कितनी पुरानी परम्परा है। देवदत्त पट्टनायक पौराणिक विषयों के जाने माने विशेषज्ञ हैं। पौराणिक कहानियों, संस्कारों और रीति-रिवाज़ों का हमारी आधुनिक जि़न्दगी में क्या महत्त्व है, इस विषय पर वह लिखते हैं और जगह-जगह व्याख्यान भी देते हैं। इनकी पन्द्रह से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं और टीवी पर इनका कार्यक्रम भी दिखाया जाता है। विष्णु के सात रहस्य, शिव के सात रहस्य और देवी के सात रहस्य उनकी बहुचर्चित पुस्तकें हैं।

                                                                                                                          $19
                                                                                                                          PashuPashu
                                                                                                                          Pashu
                                                                                                                          SPECIFICATION:
                                                                                                                          • Publisher : Rajpal and Sons 
                                                                                                                          • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                                                                                                                          • Binding :Paperback
                                                                                                                          • Language : Hindi
                                                                                                                          • Edition :2017
                                                                                                                          • Pages: 198 pages
                                                                                                                          • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                                          • ISBN-10: 9350643685
                                                                                                                          • ISBN-13: 9789350643686

                                                                                                                          DESCRIPTION: 

                                                                                                                          कैसे एक मछली दुनिया को बचा लेती है एक घोड़ा कैसे आसमान में उड़ता है राजा को कैसे पता चलता है कि उसकी प्रिय पत्नी वास्तव में मेढक है। हिन्दू पुराकथा शास्त्रों में ऐसे अनेक किस्से-कहानियाँ है जिसमें पशु-पक्षियों की महत्त्वपूर्ण भूमिका है। क्या कारण है कि कुछ को तो देवी-देवताओं के समान पूजा जाता है और कुछ से दूरी ही रखी जाती है? कुछ पशुओं की तो मनुष्यों से शत्रुता है और कुछ उनके साथ जीवन भर निभाने वाला नाता जोड़ते हैं। ऐसा कैसे हुआ कि एक हिरण ने रामायण में इतनी महत्त्वपूर्ण भूमिका निभाई ? क्यों और कैसे गरुड़ नागों का जानी दुश्मन बना ? और कैसे एक नेवले ने युधिष्ठिर को त्याग का पाठ पढ़ाया? ऐसे ही अनेक रोचक प्रश्नों के उत्तर देवदत्त पट्टनायक की इस पुस्तक में मिलेंगे।

                                                                                                                                                  $15
                                                                                                                                                  OlympusOlympus
                                                                                                                                                  Olympus
                                                                                                                                                  SPECIFICATION:
                                                                                                                                                  • Publisher : Rajpal and Sons 
                                                                                                                                                  • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                                                                                                                                                  • Binding :Paperback
                                                                                                                                                  • Language : Hindi
                                                                                                                                                  • Edition :2018
                                                                                                                                                  • Pages: 304 pages
                                                                                                                                                  • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                                                                  • ISBN-10: 9386534347
                                                                                                                                                  • ISBN-13: 9789386534347

                                                                                                                                                  DESCRIPTION: 

                                                                                                                                                  भारत में प्रचलित पौराणिक कथाओं के समान यूनान भी अनगिनत मिथकों से समृद्ध है जिनकी गाथा लेखक ने अपने अनूठे और बेहद रोचक ढंग से प्रस्तुत की है। इन कथाओं को पढ़ते हुए आश्चर्य होता है कि यूनानी और भारतीय पारम्परिक कथाओं में कितनी समानता है। क्या प्राचीन यूनानी और हिन्दू कथाओं में कोई गहरा तारतम्य था? क्या इसका कारण यह है कि दोनों सभ्यताओं का स्रोत इंडो-यूरोपियन है? इस पुस्तक में देवदत्त पट्टनायक अपनी भारतीय दृष्टि से यूनानी पारम्परिक कथाओं को देखते हैं और पाठकों के सम्मुख दोनों सभ्यताओं और मिथकों की समानताओं को उद्घाटित करते हैं। देवदत्त पट्टनायक पौराणिक विषयों के जाने-माने विशेषज्ञ हैं। पौराणिक कहानियों, संस्कारों और रीति-रिवाज़ों का हमारी आधुनिक ज़िन्दगी में क्या महत्त्व है, इस विषय पर वह लिखते हैं, व्याख्यान देते हैं और साथ ही चित्र भी बनाते हैं। 1996 से अब तक उनकी 30 से अधिक पुस्तकें और 700 से अधिक स्तम्भ प्रकाशित हो चुके हैं, जिसमें इस बात पर प्रकाश डाला है कि किस प्रकार कहानियों, प्रतीकों और कर्मकांडों से प्राचीन और आधुनिक संस्कृतियों में कल्पित कथा और आत्मगत यथार्थ को देखा और समझा जा सकता है। शिव के सात रहस्य, विष्णु के सात रहस्य, देवी के सात रहस्य, भारतीय पौराणिक कथाएँ, भारत में देवी, पशु, शिखण्डी, सीता के पाँच निर्णय और शिव से शंकर तक उनकी अन्य बहुचर्चित पुस्तकें हैं। लेखक के बारे में www.devdutt.com पर आप और अधिक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं।

                                                                                                                                                                          $30
                                                                                                                                                                          Devi Ke Saat RahasyaDevi Ke Saat Rahasya
                                                                                                                                                                          Devi Ke Saat Rahasya
                                                                                                                                                                          SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                          • Publisher : Rajpal and Sons 
                                                                                                                                                                          • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                                                                                                                                                                          • Binding :Paperback
                                                                                                                                                                          • Language : Hindi
                                                                                                                                                                          • Edition :2015
                                                                                                                                                                          • Pages: 264 pages
                                                                                                                                                                          • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                                                                                          • ISBN-10: 9350643014
                                                                                                                                                                          • ISBN-13: 9789350643013

                                                                                                                                                                          DESCRIPTION: 

                                                                                                                                                                          हिंदुतत्व में स्त्री को देवी के समान माना गया है | देश के विभिन्न हिस्सों में देवी के अलग-अलग रूप पूजे जाते हैं| कहीं वह प्रकृति के रूप में माता हैं, कहीं पर मानवता की स्रष्टा है, कही पर ज्ञान कि देवी सरस्वती है तो कहीं पर सम्पदा कि देवी लक्ष्मी है | इन अलग अलग रूप के क्या महत्व हैं और इस देवी से जुड़े प्रतिक और कर्मकाण्डो का क्या मतलब है, इन्ही सब बातों को समझने का प्रयास इस पुस्तक में किया गया हैं | देवदत्त पट्टनायक पौराणिक विषयों के जाने-माने विशेषज्ञ हैं। पौराणिक कहानियों, संस्कारों और रीति-रिवाज़ों का हमारी आधुनिक जि़न्दगी में क्या महत्त्व है, इस विषय पर वह लिखते हैं और जगह-जगह व्याख्यान भी देते हैं। इनकी पन्द्रह से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं और टीवी पर इनका कार्यक्रम भी दिखाया जाता है। विष्णु के सात रहस्य, शिव के सात रहस्य और शिखण्डी और कुछ अनसुनी कहानियाँ उनकी बहुचर्चित पुस्तकें हैं।

                                                                                                                                                                                                  $25
                                                                                                                                                                                                  Bharatiya Pauranik KathayenBharatiya Pauranik Kathayen
                                                                                                                                                                                                  Bharatiya Pauranik Kathayen
                                                                                                                                                                                                  SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                  • Publisher : Rajpal and Sons 
                                                                                                                                                                                                  • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                                                                                                                                                                                                  • Binding :Paperback
                                                                                                                                                                                                  • Language : Hindi
                                                                                                                                                                                                  • Edition :2015
                                                                                                                                                                                                  • Pages: 208 pages
                                                                                                                                                                                                  • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                                                                                                                  • ISBN-10: 9350642557
                                                                                                                                                                                                  • ISBN-13: 9789350642559

                                                                                                                                                                                                  DESCRIPTION: 

                                                                                                                                                                                                  रक्तरंजित और विकराल रूप वाली काली से लेकर विध्नहारी गणेश तक भारतीय आध्यात्मिक जगत ऐसे पात्रों से आबाद है, जिनका कोई प्रतिरूप दुनिया के किसी भी और देश में नहीं मिलता। एक रहस्यमय और अनोखी दुनिया से रू-ब-रू कराती है यह पुस्तक और पौराणिक कथाएँ प्राचीन पुराकथाओं में इन पात्रों की समृद्ध बुनावट को रेशा-दर-रेशा खोलती है और यह दिखाती है कि भारतीय पुराकथाएँ तभी बेहतर तौर पर समझी जा सकती हैं जब हम पश्चिमी, एकेश्वरवादी धारणा से हटकर हिन्दू परम्पराओं के देवी-देवता बहुल संसार में प्रवेश करें। हज़ारों वर्षों के दौरान भारतीय आख्यानों और उनकी व्याख्या पर नज़र डालती हुई भारतीय पौराणिक कथाएँ यह प्रदर्शित करती हैं कि कैसे इन कथाओं में वर्णित रीति-रिवाज़, कर्मकांड और कला आज भी जीवन्त बनी हुई है और पीढ़ी को अपनी ओर आकर्षित करती है।

                                                                                                                                                                                                                          $19
                                                                                                                                                                                                                          Bharat Mein Devi Ka SwarupBharat Mein Devi Ka Swarup
                                                                                                                                                                                                                          Bharat Mein Devi Ka Swarup
                                                                                                                                                                                                                          SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                                          • Publisher : Rajpal and Sons 
                                                                                                                                                                                                                          • By: Devdutt Pattanaik (Author)
                                                                                                                                                                                                                          • Binding :Paperback
                                                                                                                                                                                                                          • Language : Hindi
                                                                                                                                                                                                                          • Edition :2016
                                                                                                                                                                                                                          • Pages: 240 pages
                                                                                                                                                                                                                          • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                                                                                                                                          • ISBN-10: 9350643383
                                                                                                                                                                                                                          • ISBN-13: 9789350643389

                                                                                                                                                                                                                          DESCRIPTION: 

                                                                                                                                                                                                                          भारत के हर प्रान्त, हर कस्बे और यहाँ तक कि हर गाँव में अलग-अलग देवी पूजी जाती हंै और प्रत्येक का अपना अलग रूप, स्वरूप और विशेषता है। प्राचीन हिन्दू पौराणिक कहानियों और किंवदंतियों के शोध पर आधारित इस पुस्तक में लेखक देवदत्त पट्टनायक खोजबीन कर रहे हैं कि पिछले चार हज़ार वर्षों में देवी की अवधारणा कैसे बदली है। उन्होंने पाया कि जितनी भी देवियाँ हैं, उन सभी की उत्पत्ति पाँच मुख्य स्वरूपों से हुई है। पहला स्वरूप है जिसमें देवी को प्रकृति के रूप में माना गया है। देवी का दूसरा स्वरूप है जननी के रूप में है, जिसमें ममता उसका सबसे बड़ा गुण है। देवी का तीसरा स्वरूप है पुरुष को लुभाकर शारीरिक भोग-विलास से जीवन-चक्र में बाँधने वाली अप्सरा। जहाँ स्त्री घर-गृहस्थी के बन्धन में बँध जाती है तो उजागर होता है उसका चैथा स्वरूप, पत्नी के रूप में, जो अपने पतिव्रतता से चमत्कार करने की शक्ति भी रखती है। पाँचवाँ स्वरूप है बदला लेने वाली डरावनी, खूँखार आसुरी का। देवी के इन पाँच स्वरूपों को लेखक ने बहुत ही रोचक लोककथाओं और किंवदंतियों के ज़रिये पाठक के सामने उजागर किया है। देवदत्त पट्टनायक पौराणिक विषयों के जाने-माने विशेषज्ञ हैं। पौराणिक कहानियों, संस्कारों और रीति-रिवाज़ों का हमारी आधुनिक ज़िन्दगी में क्या महत्त्व है, इस विषय पर वह लिखते भी हैं और जगह-जगह व्याख्यान भी देेते हैं। इनकी पन्द्रह से अधिक पुस्तकें प्रकाशित हो चुकी हैं और टीवी पर इनका कार्यक्रम भी दिखाया जाता है। विष्णु के सात रहस्य, शिव के सात रहस्य, शिखण्डी और कुछ अनसुनी कहानियाँ, देवी के सात रहस्य, भारतीय पौराणिक कथाएँ और पशु उनकी अन्य बहुचर्चित पुस्तकें हैं।

                                                                                                                                                                                                                                                  $25
                                                                                                                                                                                                                                                  Mere Sapnon ka Bharat
                                                                                                                                                                                                                                                  Mere Sapnon ka Bharat
                                                                                                                                                                                                                                                  SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                                                                  • Publisher : Rajpal and Sons
                                                                                                                                                                                                                                                  • By: Mohandas K. Gandhi (Author)
                                                                                                                                                                                                                                                  • Binding : Paperback
                                                                                                                                                                                                                                                  • Language :Hindi
                                                                                                                                                                                                                                                  • Edition :2019
                                                                                                                                                                                                                                                  • Pages: 276 pages
                                                                                                                                                                                                                                                  • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                                                                                                                                                                  • ISBN-10: 8170287391
                                                                                                                                                                                                                                                  • ISBN-13 :9788170287391

                                                                                                                                                                                                                                                  DESCRIPTION: 

                                                                                                                                                                                                                                                  महात्मा गाँधी बीसवीं सदी के सबसे अधिक प्रभावशाली भारतीय व्यक्ति हैं, जिनकी अप्रत्यक्ष उपस्थिति उनकी मृत्यु के साठ वर्ष बाद भी पूरे देश पर देखी जा सकती है। उन्होंने स्वाधीन भारत की कल्पना की और उसके लिए कठिन संघर्ष किया। स्वाधीनता से उनका अर्थ केवल ब्रिटिश राज से मुक्ति का नहीं था बल्कि वह गरीबी, निरक्षरता और अस्पृश्यता जैसी बुराइयों से भी मुक्ति का सपना देखते थे। वह चाहते थे कि देश के सारे नागरिक समान रूप से आज़ादी और समृद्धि का सुख पा सकें। उनके बहुत-से परिवर्तनकारी विचार, जिन्हें उस समय असंभव कह कर परे कर दिया गया था, आज न केवल स्वीकार किये जा रहे हैं, बल्कि अपनाए भी जा रहे हैं। आज की पीढ़ी के सामने यह स्पष्ट हो रहा है कि गाँधीजी के विचार आज भी उतने ही प्रासंगिक हैं, जितने उस समय थे। यह तथ्य है कि गाँधीगीरी आज के समय का मंत्र बन गया है। यह सिद्ध करता है कि गाँधीजी के विचार इक्कीसवीं सदी के लिए भी सार्थक और उपयोगी हैं। यह पुस्तक गाँधीजी के मन और विचारों की एक विस्मयकारी झाँकी प्रस्तुत करती है। इसमें आज के उन्नतिशील भारत के बारे में उनके जीवंत सपनों की झलक मिलती है।

                                                                                                                                                                                                                                                                          $15
                                                                                                                                                                                                                                                                          TatvabodhTatvabodh
                                                                                                                                                                                                                                                                          Tatvabodh
                                                                                                                                                                                                                                                                          SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                                                                                          • Publisher : Rajpal and Sons
                                                                                                                                                                                                                                                                          • By: Rajesh Benjwal
                                                                                                                                                                                                                                                                          • Binding : Hardcover
                                                                                                                                                                                                                                                                          • Language : Hindi
                                                                                                                                                                                                                                                                          • Edition :2016
                                                                                                                                                                                                                                                                          • Pages:  192 pages
                                                                                                                                                                                                                                                                          • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                                                                                                                                                                                          • ISBN-10: 9350643529
                                                                                                                                                                                                                                                                          • ISBN-13 :9789350643525

                                                                                                                                                                                                                                                                          DESCRIPTION: 

                                                                                                                                                                                                                                                                          तत्त्वबोध आपको वेदान्त की खूबसूरती, गहनता एवं विस्तृतता को समझने एवं सराहने में मदद करता है। - स्वामी दयानन्द सरस्वती आर्ष विद्या गुरुकुल के संस्थापक और अद्वैत वेदान्त के विश्वविख्यात गुरु जिसे आज हम हिन्दू धर्म कहते हैं, उसका मूल नाम सनातन धर्म है। सनातन संस्कृत का शब्द है जिसका अर्थ है, अनन्त अर्थात् जिसका न कोई आरम्भ है और न ही कोई अन्त। सनातन धर्म को पूरी तरह से समझने के लिए प्रकरण ग्रन्थों का अध्ययन करना ज़रूरी है, जिनमें से तत्त्वबोध सबसे महत्त्वपूर्ण ग्रन्थ है। बहुत से लोगों का मानना है कि तत्त्वबोध के रचयिता आदिगुरु शंकराचार्य थे या फिर उन्हीं की परम्परा में उनके पश्चात् किसी पदवीधारी शिष्य ने इसकी रचना की है। प्रस्तुत ग्रन्थ को ऋषिकेश के आर्ष विद्या गुरुकुल के विश्वविख्यात गुरु स्वामी दयानन्द सरस्वती के शिष्य पंडित राजेश बेंजवाल ने हिन्दीभाषी पाठकों के लिए विशेष रूप से तैयार किया है। इसमें सनातन धर्म या जिसे हम वेदान्त भी कहते हैं, में मुख्य रूप से प्रयुक्त होने वाले महत्त्वपूर्ण शब्दों की बहुत सरलता और सहजता से व्याख्या की है। मूल पाठ के अतिरिक्त इसमें ऐसी भी जानकारियों का समावेश किया है जिससे न सिर्फ सनातन धर्म को पूरी तरह से समझना आसान होगा बल्कि उपनिषदों और गीता जैसे ग्रन्थों को समझने में भी सहायता मिलेगी।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                  $25
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  BhagwadgitaBhagwadgita
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  Bhagwadgita
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • Publisher : Rajpal and Sons
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • By:  Harivansh Rai Bachchan
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • Binding : Paperback
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • Language :   Hindi
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • Edition : 2012
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • Pages: 288 pages
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • Size : 20 x 14 x 4 cm
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • ISBN-10: 8170288037
                                                                                                                                                                                                                                                                                                  • ISBN-13 :978-8170288039

                                                                                                                                                                                                                                                                                                  DESCRIPTION:

                                                                                                                                                                                                                                                                                                   श्रीमद्भगवद्गीता का कर्मयोग का संदेश युगों-युगों से भारतीय जनमानस को प्रेरणा देता आ रहा है। लोकमान्य तिलक, महात्मा गांधी ने तो उससे प्रेरणा ग्रहण की ही, खुदीराम बोस जैसे जुझारू क्रांतिकारियों ने भी गीता की प्रति हाथ में लेकर फांसी के फंदे को चूमा। अंग्रेज़ी तथा भारतीय भाषाओं में गीता के दर्जनों अनुवाद अब तक हो चुके हैं। किंतु कविता में गीता के अनुवाद की पहल ‘मधुशाला’ के अमर गायक व प्रख्यात कवि हरिवंशराय ‘बच्चन’ ने की। उन्होंने गीता के प्रत्येक श्लोक का मुक्त छंद में अनुवाद किया और साथ में मूल संस्कृत श्लोक भी दिया है जिससे पाठक गीता के श्लोकों के काव्यानुवाद का रसास्वादन कर सकेंगे।

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              $19
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              1008 Kabir Vani Nectar of Truth and Knowledge
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              1008 Kabir Vani Nectar of Truth and Knowledge
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Publisher : Manoj Publications
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • By : Lalchand Doohan Jigyasu
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Cover : Hardcover
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Language : English
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Edition : 2005
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Pages : 340
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Weight : 589 gm
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Size : 8.7 x 5.9 x 0.8 inches
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • ISBN-10 : 8181335155
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • ISBN-13 : 978-8181335159
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              DESCRIPTION:

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              The Book contains the verses of Bhagat Kabir.

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              $32
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Word Index of the Mahabharata : 8 Volumes Set (Hindi)
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Word Index of the Mahabharata : 8 Volumes Set (Hindi)
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Publisher : Parimal Publication Pvt. Ltd.
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • By : Gyan Prakash Shastri
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Cover : Hardcover
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Language : Hindi 
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Edition : 2017
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Pages : 5886
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Weight : 15.6 kg
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Size : 11.0 x 8.5 inches
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • ISBN-10 : 8171105807
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • ISBN-13 : 978-8171105809
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              $525
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Yogavashishth Maharamayanam (Set of 3 Volumes)
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Yogavashishth Maharamayanam (Set of 3 Volumes)
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Publisher : Chaukhambha Surbharati Prakashan 
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • By : Pnt. Shrikrishan Pant Shastri
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Cover : Paperback
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Language : Sanskrit Text with Hindi Translation
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Edition : 2016
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Pages : 3354
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • ISBN-10 : 9385005340
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • ISBN-13 : 978-9385005343
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              $109.90
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Valmikiya Ramayan (Hindi)
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Valmikiya Ramayan (Hindi)
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              SPECIFICATION:
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Publisher : Orient Publication
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • By : Dr. Ramachandra Varma Shastri
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Cover : Paperback
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Language : Hindi
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Edition : 2012
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Pages : 395
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Weight : 544 gm
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • ISBN-10 : 812220466X
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              • ISBN-13 : 978-8122204667
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              DESCRIPTION:

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Ramayana is one of India's oldest and greatest epics, telling the tale of Prince Rama, an avatar of the Hindu deity Lord Vishnu. The book was primarily written in the form of 24,000 verses and narrates the journey of Rama and his quest to find his wife Sita who was kidnapped by the Demon-king Ravana and taken to Lanka.
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              The thematic elements in the saga include many important topics such as the notion of dharma, the ideal king, the ideal brother, the ideal wife, friendship and vengeance. The epic is highly engrossing and features many notable characters such as Hanuman, Laxman and Kumbhakarna.
                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Ramayana, despite being scripted centuries ago, holds up as a gripping and invigorating tale of love and friendship. The story covers numerous moral and ideological dilemmas and is an ideal read for people of all ages. 

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              $32

                                                                                                                                                                                                                                                                                                                              Recently viewed