Hindi Literature Books

Hindi Literature Books

61 products

Showing 25 - 48 of 61 products
View
Chaturi Chamar (Hindi)
Chaturi Chamar (Hindi)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajkamal Prakashan
  • By : Suryakant Tripathi Nirala
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2010
  • Pages : 96
  • Weight : 300 gm
  • Size : 8 x 10 x 1.8 inches
  • ISBN-10: 8171789021
  • ISBN-13: 978-8171789023
$19
Premchand Set of 8 Books Hindi (Premasharam, Gaban, Nirmala, Rangbhumi, KarmBhumi, Vardaan, Godan, Pratigya)
Premchand Set of 8 Books Hindi (Premasharam, Gaban, Nirmala, Rangbhumi, KarmBhumi, Vardaan, Godan, Pratigya)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Maple Press
  • By : Prem Chand
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 2017
  • Pages : 2536
  • Weight : 2.5 gm
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 9350337134
  • ISBN-13: 978-9350337134
$48
Bhakat Prahlad (Hindi Edition)
Bhakat Prahlad (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajkamal Prakashan
  • By : Suryakant Tripathi Nirala
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2012
  • Pages : 95
  • Weight : 200 gm
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 8171788963
  • ISBN-13: 978-8171788965
$18
Mamma Ki Diary (Hindi)
Mamma Ki Diary (Hindi)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Hind Yugm
  • By : Anu Singh Choudhary
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2015
  • Pages : 160
  • Weight : 200 gm
  • Size : 0.8 x 0.5 inches
  • ISBN-10: 9384419109
  • ISBN-13: 978-9384419103
DESCRIPTION:
एक माँ की बेबाक, बेलौस डायरी। किताब एक माँ के नोट्स हैं, लेखिका का अपना ज़िन्दगीनामा है तो दूसरी माँओं के क़िस्से भी। बच्चों को पैदा करने से लेकर उनकी परवरिश के क्रम में एक पेरेन्ट, एक परिवार, एक समाज किस तरह ख़ुद को कितना बदलता है (या नहीं बदल पाता), उसका लेखा-जोखा। 'मम्मा की डायरी' न पेरेन्टिंग गाइड है और न फिक्शन, न मातृत्व पर सलाह है। तजुर्बों का एक संकलन है, और कुछ मुश्किल सवालों के जवाब ढूँढ़ने की कोशिश। किताब नॉन-फिक्शन है, और इसमें शामिल क़िस्से असल ज़िन्दगी के टुकड़े हैं।
$18
Alka (Novel in HINDI)
Alka (Novel in HINDI)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajkamal Prakashan
  • By : Suryakant Tripathi Nirala
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 2007
  • Pages : 154
  • Weight : 200 gm
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 8126713739
  • ISBN-13: 978-8126713738
$20
Neela Scarf (Hindi Edition)
Neela Scarf (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Hind Yugm
  • By : Anu Singh Choudhary
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2014
  • Pages : 160
  • Weight : 200 gm
  • Size : 0.8 x 0.5 inches
  • ISBN-10: 9381394857
  • ISBN-13: 978-9381394854
$18
Choti Ki Pakar (Hindi)
Choti Ki Pakar (Hindi)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajkamal Prakashan
  • By : Suryakant Tripathi Nirala
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2010
  • Pages : 160
  • Weight : 360 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 8126700025
  • ISBN-13: 978-8126700028
$25
Dozakhnama : Jab Manto Hue Ghalib se RuBuRu (Hindi Edition)
Dozakhnama : Jab Manto Hue Ghalib se RuBuRu (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Harper Hindi
  • By : Rabisankar Bal
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 2015
  • Pages : 476
  • Weight : 500 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 9351772381
  • ISBN-13: 978-9351772385
DESCRIPTION:
Dozakhnama begins in Lucknow, where the narrator chances upon a man in possession of a manuscript that he claims was penned by Manto, the famous Urdu writer. This manuscript is a novel, written by Manto, on the legendary Mirza Ghalib. The narrator is unable to read it as the manuscript is in Urdu. He then shifts to Calcutta to learn the language, with the intention of publishing it later. This marks the beginning of the surreal journey, which is presented as a conversation between Ghalib and Manto from their graves. What follows is exquisite storytelling, a culture of the bygone era between two literary stalwarts which spans over two centuries.

About the Author

Rabisankar Bal is a Bengali novelist and shortstory writer, credited with over fifteen novels. His other novels include The Biography Of Midnight . He was born in the year 1962 and lives in Kolkata. He pursues journalism, apart from being a writer. He zealously follows literature, painting, and also world cinema. His next novel lined up for release revolves around the Sufi poet Rumi, imagined from the perspective of Ibn Batuta. He writes predominantly in Bengali. His novels have won a few awards namely, Sutapa Roychowdhury Memorial Prize, and Bankimchandra Smriti Puraskar. Amrita Bera is a poet, translator and writer based in New Delhi. She has translated Light through a labyrinth, a collection of poems from Hindi to English.
$23
Dilli Darbaar (Hindi Edition)
Dilli Darbaar (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Westland
  • By : Satya Vyas
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2016
  • Pages : 176
  • Weight : 200 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 9386224194
  • ISBN-13: 978-9386224194
DESCRIPTION:
Dilli Darbaar is the story of a young, jovial, techno-geek called Rahul Mishra, and his journey from being a careless flirt to a responsible man. Rahul moves from a small town to Delhi for better future prospects, and this brings about changes in his life and lifestyle to which he must adapt. His mantra in life is there is always a shortcut to success which he ironically proves right through his own eccentric ways. Dilli Darbaar is also about Paridhi, a typical East Delhi girl, and her path, as well as Rahul s, to finding the meaning of love, trust, friendship and life.

दिल्ली दरबार छोटे शहरों के युवाओं के दिल्ली प्रवास, प्रेम, प्रयास और परेशानियों की एक प्रहसनात्मक कहानी है। यह लापरवाह इश्क से जिम्मेदार प्रेम की परिणति तक की एक खुशहाल यात्रा है। यह कहानी दरअसल उन लाखों युवाओं के जीवनशैली की भी है जो बेहतर जिंदगी और भविष्य की संभावनाओं के लिए दिल्ली जैसे महानगर का रास्ता लेते हैं। मनोरंजक ढंग से कही गई इस कहानी के केंद्र में टेक्नो गीक 'राहुल मिश्रा' है; जिसका मंत्र है 'सफलता का हमेशा एक छोटा रास्ता है' और विडंबना यह है कि वह इस बात को अपने ही सनकी तरीके से सही साबित भी करता जाता है।कहानी परिधि की भी है जो पूर्वी दिल्ली की एक ठेठ लड़की है और राहुल को लेकर भविष्य तलाश रही है। मूलतः ‘दिल्ली दरबार’ दिल्ली की नहीं, बल्कि दिल्ली में कहानी है जो चलते-चलते प्रेम, विश्वास, दोस्ती और 'जीवन' के अर्थ खोजती जाती है।

About the Author

Satya Vyas is from the current generation of professionals-turned-amateur writers. A law graduate from the prestigious law school BHU, and a logistics professional, Satya Vyas has created a niche for himself in new age Hindi writing. His first novel Banaras Talkies is a bestseller, with seven editions (and counting) in one year. The novel has also been selected as one of the top 5 Hindi books of 2015 by Amazon India. Dilli Darbaar is his second novel. An avid reader, a blogger, a poet by heart and a raw rhymer, he is currently working on a couple of screenplays as well. He presently resides in Rourkela.
$19
Apsara (Hindi)
Apsara (Hindi)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajkamal Prakashan
  • By : Suryakant Tripathi Nirala
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2007
  • Pages : 171
  • Weight : 200 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 8126713402
  • ISBN-13: 978-8126713400
$21
Deepshikha (Hindi)
Deepshikha (Hindi)
SPECIFICATION:
Publisher : Rajkamal Prakashan
By : Mahadevi Verma
Cover : Paperback
Language : Hindi
Edition : 2015
Pages : 121
Weight : 200 g.
Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
ISBN-10: 8180313077
ISBN-13: 978-8180313073
$18
21 Anmol Kahaniya (Hindi)
21 Anmol Kahaniya (Hindi)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Maple Press
  • By : Munshi Premchand
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2015
  • Pages : 208
  • Weight : 250 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10 : 9350336618
  • ISBN-13 : 978-9350336618
DESCRIPTION:
With Premchand's versatile writing skill, the stories took a valuable space in indian literature. This book is an integration of 21 stories by Munshi Premchand, some of them are Ansuon ki holi, Namak ka Daroga, Shatranj ke Khiladi and many more.

About the Author

Munshi Premchand, an Indian writer (novel writer, story writer and dramatist), was born in the year 1880 at 31st of July in the Lamhi village (near Varanasi). He is the famous writer of the early 20th century. He got died at 8th of October in 1936 by serving the people with his great writings. The birth name of him is Dhanpat Rai Srivastav and pen name is Nawab Rai. He wrote his all writings with his pen name. Finally his name changed to the Munshi Premchand. His first name Munshi is an honorary prefix given by his lovers in the society because of his quality and effective writings. As a Hindi writer he wrote approximately dozen novels, 250 short stories, numerous essays and translations.
$19
Harappa Curse Of The Blood River (Hindi)
Harappa Curse Of The Blood River (Hindi)
SPECIFICATION:
  • Publisher : TreeShade Books
  • By : Vineet Bajpai
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2019
  • Pages : 266
  • Weight : 300 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 8193642430
  • ISBN-13: 978-8193642436
DESCRIPTION:
2017, Delhi Vidyut s dying ancestor summons him to Banaras. The old Brahmin chieftain of the Dev-Raakshasa Matth, or the God-Demon Clan, bears a chilling secret. Their bloodline carries an ancient curse that will plague mankind - towards its own violent extinction. 1700 BCE, Harappa Harappa is a magnificent city on the banks of the mighty Saraswati river. The darkness of treachery, taantric exorcism and bloodshed unleashes itself on the last devta, paving the way for his devastating revenge...and the horrifying truth behind the fall of the glorious civilisation. 2017, Paris The world s most powerful religious institution is rattled. Europe s dreaded crime lord meets a mysterious man in Paris. A lethal assassin boards a train, as Rome fears the worst. The prophesied devta has returned. What connects Banaras, Harappa and Rome? What was the ancient curse and who was the last devta? What is the terrible secret behind the fall of the colossal Indus Valley? Read on as you travel through a saga of deceit and violence, gods and demons, love and ambition.

पुस्तक परिचयः 2017, दिल्ली - अपनी आखिरी सांसें गिनते विद्युत के एक बुज़ुर्ग ने उसे बनारस बुलाया। देव-राक्षस मठ या यूं कहें कि देव-दानव वंश के मुखिया इस बुज़ुर्ग ब्राह्मण के सीने में एक खौफ़नाक राज़ दफ़्न है। उन्हें पीढ़ी दर पीढ़ी के लिए एक अभिशाप मिला है, जो समस्त मानव जाति को क्रूर अंत की ओर धकेल सकता है। 1700 ईसा पूर्व, हड़प्पा - हड़प्पा, विशाल सरस्वती नदी के तट पर बसा एक भव्य नगर है। विश्वासघात के अंधेरे, तंत्र-मंत्र पर विश्वास, और भारी खूनखराबा अंतिम देवता पर ही हावी हो जाता है, और जो उनके विनाशकारी प्रतिशोध का रास्ता तैयार कर...इस गौरवशाली सभ्यता के पतन का भयावह कारण बनेगा। 2017, पेरिस - दुनिया का सबसे शक्तिशाली धार्मिक संस्थान बौखलाया हुआ है। यूरोप का खूंखार अपराध का सरगना पेरिस में एक रहस्यमय व्यक्ति से मिला। एक घातक हत्यारा ट्रेन में सवार हुआ, क्योंकि रोम को अपने सबसे भयानक डर के सच होने का अंदेशा है। भविष्यवाणी में जिसका ज़िक्र था, वो देवता लौट चुका है। आखिर वो क्या है जो बनारस, हड़प्पा और रोम को जोड़ता है? वो पुराना अभिशाप क्या है, और कौन है वो आखिरी देवता? सिंधु घाटी जैसी विशाल सभ्यता के पतन के पीछे का खौफ़नाक सच, आखिर क्या है? छल-कपट, हिंसा, देवता-दानव, प्रेम और महात्वाकांक्षा से भरी इस गाथा को पढ़िए और समय के रोमांचक सफ़र पर निकल पड़िए।
$19
Duniya Jise Kahte Hain (Hindi Edition)
Duniya Jise Kahte Hain (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Manjul Publishing House
  • By : Nida Fazli
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2016
  • Pages : 284
  • Weight : 450 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 8183227368
  • ISBN-13: 978-8183227360
DESCRIPTION:
निदा फ़ाज़ली उन दिनों से हिन्दी पाठकों के प्रिय हैं, जिन दिनों हिन्दी के पाठक मीर, ग़ालिब, इकबाल फ़िराक़, आदि के अलावा शायद ही किसी नये उर्दू शायर को जानते हों। आठवें दशक के आरम्भ में ही उनके अनेक शेर हिन्दी की लाखों की संख्या में छपने वाली पत्रिकाओं धर्मयुग, सारिका आदि के माध्यम से हिन्दी पाठकों के बीच लोकप्रिय हो चुके थे और अधिकांश हिन्दी पाठक उन्हें हिन्दी का ही कवि समझते थे।

'दुनिया जिसे कहते हैं', में उनकी प्रसिद्ध और प्रतिनिधि ग़ज़लों और नज़्मों को शामिल किया गया है। बहुत-सी रचनाएँ हिन्दी के पाठकों को पहली बार पढ़ने को मिलेंगी। प्रयास किया गया है कि उनकी श्रेष्ठ रचनाओं का एक प्रामाणिक संकलन देवनागरी में सामने आए।
$21
Naraz (Hindi Edition)
Naraz (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Manjul Publishing House
  • By : Rahat Indori
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2016
  • Pages : 130
  • Weight : 200 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 8183227023
  • ISBN-13: 978-8183227025
DESCRIPTION:
नाराज़ राहत इंदौरी राहत की पहचान के कई हवाले हैं - वो रंगों और रेखाओं के फनकार भी हैं, कॉलेज में साहित्य के उस्ताद भी, मक़बूल फिल्म के गीतकार भी हैंऔर हर दिल अज़ीज़ मशहूर शायर भी है I इन सबके साथ राजनीतिक और सामाजिक परिस्थितियों की पृष्ठभूमि में इंसान की अंदरुनी और बाहरी कश्मकश के प्रत्यक्षदर्शी भी हैं I राहत की शख़्सियत के तमाम पहलू उनकी ग़ज़ल के संकेतों और प्रतीकों में छलकते हैं I उनकी शायरी की सामूहिक प्रकृति विद्रोही और व्यंगात्मक है, जो सहसा ही परिस्तिथियों का ग़ज़ल के द्वारा सर्वेक्षण और विश्लेषण भी है I राहत की शायरी की भाषा भी उनके विचारों की तरह सूफ़ीवाद का प्रतिबिंब है I प्रचारित शब्दावली और अभिव्यक्ति की प्रचलित शैली से अलग अपना रास्ता बनाने के साहस ने ही राहत के सृजन की परिधि बनाई है I निजी अवलोकन और अनुभवों पर विश्वास ही उनके शिल्प की सुंदरता और उनकी शायरी की सच्चाई है I - निदा फाज़ली
$23
Karm Bhumi (Hindi Edition)
Karm Bhumi (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Maple Press
  • By : Munshi Premchand
  • Cover : Paperback
  • Language : English
  • Edition : 2015
  • Pages : 280
  • Weight : 300 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 9350336596
  • ISBN-13: 978-9350336595
DESCRIPTION:

Karmabhoomi is set in the Uttar Pradesh of the 1930s. By the beginning of the 20th century, Islam and Hinduism had coexisted in India for over a thousand years. Barring the occasional outbursts of violence, the two religious communities had lived together peacefully and shared strong social bonds except marriage. English education, however, drove a wedge between the communities.

India of the early 1930s consisted of a great mass of poor and illiterate people who were exploited by the rich and powerful, irrespective of caste or religion. The author has sympathy for these poor and toiling masses are clearly reflected in his writings. It is against this backdrop that Premchand wrote Karmabhumi.

About the Author

Munshi Premchand, an Indian writer (novel writer, story writer and dramatist), was born in the year 1880 at 31st of July in the Lamhi village (near Varanasi). He is the famous writer of the early 20th century. He got died at 8th of October in 1936 by serving the people with his great writings. The birth name of him is Dhanpat Rai Srivastav and pen name is Nawab Rai. He wrote his all writings with his pen name. Finally his name changed to the Munshi Premchand. His first name Munshi is an honorary prefix given by his lovers in the society because of his quality and effective writings. As a Hindi writer he wrote approximately dozen novels, 250 short stories, numerous essays and translations.

$18
Chaho aur Paalo (Hindi): Anand Lahar
Chaho aur Paalo (Hindi): Anand Lahar
SPECIFICATION:
  • Publisher : Jaico Publishing
  • By : Nilotpal Mrinal
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2015
  • Pages : 244
  • Weight : 400 g.
  • Size : 9 x 6 x 0.6 inches
  • ISBN-10: 8184956835
  • ISBN-13: 978-8184956832
  • ASIN: B01FOB5BWQ
DESCRIPTION:
In our daily lives, we have to deal and manage innumerable situations, be it family, profession, relationships or other responsibilities. This book reveals insights and offers tips on how to deal with these life situations joyously and effortlessly.

This book offers a compilation of Sadhguru’s deep insights and sharp logic which are expressed through interesting stories and anecdotes. Sadhguru offers solutions to the problems we face in our day to day life by bringing clarity about the issues we are going through
This book is an invitation to explore life and live life to its fullest potential. Two simple yet potent tools offered in this book, IshaKriya and Kalpavriksha Meditation, help one to lead a joyous life and achieve their desired goals.

We hope that this book will be an inspiration for you to start an exciting spiritual journey and to join us in creating a world filled with love, light and laughter.

Sadhguru is a yogi and profound mystic of our times. An absolute clarity of perception places him in a unique space in not only matters spiritual but in business, environmental and international affairs, and opens a new door on all that he touches.
$21
Aughad (Hindi Edition)
Aughad (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Hind Yugm
  • By : Nilotpal Mrinal
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2019
  • Pages : 384
  • Weight : 300 g.
  • Size : 0.8 x 0.1 x 0.5 inches
  • ISBN-10: 9387464504
  • ISBN-13: 978-9387464506
DESCRIPTION:
‘औघड़’ भारतीय ग्रामीण जीवन और परिवेश की जटिलता पर लिखा गया उपन्यास है जिसमें अपने समय के भारतीय ग्रामीण-कस्बाई समाज और राजनीति की गहरी पड़ताल की गई है। एक युवा लेखक द्वारा इसमें उन पहलुओं पर बहुत बेबाकी से कलम चलाया गया है जिन पर पिछले दशक के लेखन में युवाओं की ओर से कम ही लिखा गया। ‘औघड़’ नई सदी के गाँव को नई पीढ़ी के नजरिये से देखने का गहरा प्रयास है। महानगरों में निवासते हुए ग्रामीण जीवन की ऊपरी सतह को उभारने और भदेस का छौंका मारकर लिखने की चालू शैली से अलग, ‘औघड़’ गाँव पर गाँव में रहकर, गाँव का होकर लिखा गया उपन्यास है। ग्रामीण जीवन की कई परतों की तह उघाड़ता यह उपन्यास पाठकों के समक्ष कई विमर्श भी प्रस्तुत करता है। इस उपन्यास में भारतीय ग्राम्य व्यवस्था के सामाजिक-राजनितिक ढाँचे की विसंगतियों को बेहद ह तरीके से उजागर किया गया है। ‘औघड़’ धार्मिक पाखंड, जात-पात, छुआछूत, महिला की दशा, राजनीति, अपराध और प्रसाशन के त्रियक गठजोड़, सामाजिक व्यवस्था की सड़न, संस्कृति की टूटन, ग्रामीण मध्य वर्ग की चेतना के उलझन इत्यादि विषयों से गुरेज करने के बजाय, इनपर बहुत ठहरकर विचारता और प्रचार करता चलता है। व्यंग्य और गंभीर संवेदना के संतुलन को साधने की अपनी चिर-परिचित शैली में नीलोत्पल मृणाल ने इस उपन्यास को लिखते हुए हिंदी साहित्य की चलती आ रही सामाजिक सरोकार वाली लेखन को थोड़ा और आगे बढ़ाया है।.

About the Author

साहित्य अकादमी युवा पुरस्कार से सम्मानित नीलोत्पल मृणाल 21वीं सदी की नई पीढ़ी के सर्वाधिक लोकप्रिय लेखकों में से एक हैं, जिनमें कलम के साथ-साथ राजनैतिक और सामाजिक मुद्दों पर ज़मीनी रूप से लड़ने का तेवर भी हैं। इसीलिए इनके लेखन में भी सामाजिक विषमताएँ, विडंबनाएँ और आपसी संघर्ष बहुत स्पष्ट रूप से दृष्टिगोचर होते हैं। लेखन के अलावा लोकगायन और कविताई में बराबर गति रखने वाले नीलोत्पल ने अपने पहले उपन्यास ‘डार्क हॉर्स’ के बरक्स ‘औघड़’ में ग्रामीण भारत के राजनैतिक-सामाजिक जटिलता की गाँठ पर अपनी कलम रखी है। ‘औघड़’ नई वाली हिंदी के वितान का एक नया विस्तार है।.
$19
Darra Darra Himalaya (Hindi)
Darra Darra Himalaya (Hindi)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajkamal Prakashan
  • By : Ajoy Sodani
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2014
  • Pages : 155
  • Weight : 750 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 8126726725
  • ISBN-13: 978-8126726721
DESCRIPTION:

दर्रा दर्रा हिमालय' एक परिवार की हिमालय पर घुमक्कड़ी का वृत्तान्त है| ऐसा परिवार जो फुरसत के क्षणों में विदेशों को सैर के बजाय बर्फ ढंके इन पहाड़ों को वरीयता देता है| इंदौर के अजय सोडानी को हिमालय की सर्द, मनोहारी और जानलेवा वादियों से गहरा अनुराग है| काल्पनिक से लगनेवाले सौन्दर्यशाली पहाड़ों पर सपरिवार चढ़ाई और बर्फ के गगनचुम्बी शिखरों को दर्रा-दर्रा महसूस करने के दौरान प्रकृति के मनोरम स्पर्श से भीगे तन-मन कई बार मौत के मुकाबिल भी रहे, लेकिन जिंदगी के पन्ने पर हौसले की स्याही से साहस की गाथा रचने वाले मौत की परवाह कहाँ करते| जनश्रुतियों और पौराणिक ग्रंथो में चर्चित स्थलों और मार्गों की सत्यता को परखने, हिमालय और वहां के जनजीवन के विलुप्तप्राय सौन्दर्य को निहारने-समझने की उत्कंठा में करीब बीस हजार फीट की ऊंचाई वाले कालिंदी खाल पास को लांघते हुए भी मौत का भय बर्फ की तरह पिघलता रहा| हिमालय की घाटियों में विचरती वायु में जाने ऐसा क्या था कि अजय बार-बार वहां लौटे और हर बार हिमालय की दी हुई एक नई चुनौती को स्वीकार किया| 'दर्रा दर्रा हिमालय' अपनी राष्ट्रिय धरोहरों और प्रतीकों के प्रति अनुरक्ति वाले मानस की साहसिक यायावरी की गाथा तो कहती ही है, साथ ही रोज-ब-रोज बढती प्रदूषण की समस्या और पर्यावरण संरक्षण पर उसकी चिंता से भी रू-ब-रू कराती है |

About the Author

अजय सोडानी का जन्म 8 अप्रैल, 1961 को इंदौर में हुआ। इनकी प्रारम्भिक शिक्षा इंदौर के वैष्णव स्कूल में हुई तथा इन्होंने एम.जी.एम. मेडिकल कॉलेज, इंदौर से ही एम.बी.बी.एस. तथा एम.डी. की उपाधि प्राप्त की।
भ्रमण करना इनके जीवन का विशेष पक्ष रहा है। इन्होंने शहरों से इतर, भारत के सुदूर इलाकों में भी सपत्नीक पैदल भ्रमण करने का गौरव हासिल किया है।
अपनी यात्राओं के दौरान अर्जित अनुभवों को कविता, निबन्ध, छायाचित्र तथा कहानियों का रूप देने वाले अजय सोडानी देश की विभिन्न पत्र-पत्रिकाओं में निरन्तर प्रकाशित व प्रशंसित होते रहे हैं।
अपनी विशिष्टता के कारण ही इनकी यात्राएँ 'लिम्का बुक ऑफ रिकार्ड्स—2006 तथा 2011 में दर्ज की जा चुकी हैं।
चिकित्सा से इतर अजय सोडानी की इससे पहले 'दर्रा-दर्रा हिमालय’ यात्रा-वृत्तान्त की पुस्तक छप चुकी है।
फिलहाल वे 'एम्स’, नईदिल्ली में डी.एम. व न्यूरोलॉजी के रूप में कार्यरत हैं।
सम्पर्क: 42, कालिंदी कुञ्ज
इन्दौर- 452016.
$27
Lokpriy Shayar Aur Unki Shayari-Firaq Gorakhpuri (Hindi Edition)
Lokpriy Shayar Aur Unki Shayari-Firaq Gorakhpuri (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajpal and Sons
  • By : Prakash Pandit
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2014
  • Pages : 128
  • Weight : 250 g.
  • Size : 8.4 x 5.4 x 0.4 inches
  • ISBN-10: 9350641976
  • ISBN-13: 978-9350641972
DESCRIPTION:
'फ़िराक़' साहब ने अनगिनत ग़ज़लें, नज़्मे, रुबाइयाँ, कतए इत्यादि लिखे है। समालोचक भी वह उच्चकोटि के थे लेकिन स्मरण वे सदा अपनी ग़ज़लों और ग़ज़लों के उन शे'रो के कारन किये जायेंगे जिनकी संख्या सेकड़ो तक पहोचती है।
$18
Mallika (Hindi Edition)
Mallika (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Rajpal and Sons
  • By : Manisha Kulshreshtha
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2019
  • Pages : 160
  • Weight : 200 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 938653469X
  • ISBN-13: 978-9386534699
DESCRIPTION:
मल्लिका आधुनिक हिन्दी के निर्माता भारतेन्दु हरिश्चन्द्र की वह प्रेमिका थी जिसके संबंध में इतिहास और साहित्य मौन है। भारतेन्दु के घर के पास रहने वाली बाल-विधवा, मल्लिका ने भारतेन्दु से हिन्दी पढ़ना-लिखना सीखकर बांग्ला के तीन उपन्यासों का हिन्दी में अनुवाद किया। उन्हीं अनुवादों ने भारतेन्दु को ‘उपन्यास’ विधा से परिचित करवाया और इसी से प्रेरणा पाकर वे आधुनिक हिन्दी के निर्माता बने। लेकिन भाग्य की ऐसी विडंबना कि मल्लिका ने जो स्वयं मौलिक उपन्यास लिखा, उसका कहीं कोई ज़िक्र तक नहीं मिलता; जबकि उनका वह उपन्यास हिन्दी का प्रथम उपन्यास माने जाने वाले, परीक्षागुरु, से पहले का है। इतिहास के धुंधलके से गल्प के सहारे मनीषा कुलश्रेष्ठ ने उसी विस्मृत और उपेक्षित नायिका को खोज निकाला है और उसके जीवन पर एक काल्पनिक जीवनीपरक उपन्यास रचा है। मनीषा कुलश्रेष्ठ एक सुपरिचित लेखिका हैं जो कथा साहित्य के कई महत्त्वपूर्ण सम्मान और फ़ैलोशिप प्राप्त कर चुकी हैं। इनके अब तक सात कहानी-संग्रह और चार उपन्यास प्रकाशित हो चुके हैं जिनमें शिगाफ़, पंचकन्या, स्वप्नपाश और किरदार उल्लेखनीय हैं। इनकी कई कहानियाँ विदेशी भाषाओं में भी अनूदित हो चुकी हैं। इनका संपर्क है |
$24
Godan (Hindi Edition)
Godan (Hindi Edition)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Maple Press
  • By : Munshi Premchand
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2015
  • Pages : 360
  • Weight : 400 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 9350336626
  • ISBN-13: 978-9350336625
DESCRIPTION:
Godan is a Hindi novel by Munshi Premchand, It was first published in 1936 and is considered one of the greatest Hindustani novels of modern Indian literature. Themed around the socio economic deprivation as well as the exploitation of the village poor, the novel was the last complete novel of Premchand.
$21
Sampooran Panchtantra (Hindi)
Sampooran Panchtantra (Hindi)
SPECIFICATION:
  • Publisher : Maple Press
  • By : Shri Vishnu Sharma
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2014
  • Pages : 376
  • Weight : 500 g.
  • Size : 7.9 x 5.5 x 1.6 inches
  • ISBN-10: 9350337258
  • ISBN-13: 978-9350337257
DESCRIPTION:
पंचतंत्र भारतीय संस्कृति , भारतीय रीती-नीति और भारत कि पवित्र परम्परा क घोतक एक रत्न है। विद्वान रचियता ने इसमें हमेशा काम आनेवाली धार्मिक , आर्थिक और राजनीतिक बातों को बहुत सुन्दर ढंग से सजाया है। यह ग्रन्थ अपने पाठकों को एक अभिन्न साथी के रूप में मिलता है , जो जीवन भर सम्पत्ति - विपत्ती , कलह - मित्रता , हर्ष - विवाद एवं सुख -दुख के समय असीम प्रेम के साथ हाथ बड़ाने को तैयार रहता है। आप कैसी भी स्थिति मे क्यो न हो , इसके कुछ पन्नो को पढ़ लीजीए। यह तुरंत आपको कोई ऐसी बात बताएगा कि जिससे आपको एक नयी स्फूर्ति का अनुभव होने लगेगा और आप अनायास आपने कर्तव्य में अधिक ततपरता के साथ लग जायेंगे।
$19
Chanakya Neeti: Chanakya Sutra Sahit in Hindi
Chanakya Neeti: Chanakya Sutra Sahit in Hindi
SPECIFICATION:
  • Publisher : Diamond Books
  • By : Ashwani Prashar
  • Cover : Paperback
  • Language : Hindi
  • Edition : 2017
  • Pages : 208
  • Weight : 300 g.
  • Size : 5.5 x 0.4 x 8.5 inches
  • ISBN-10: 8171826253
  • ISBN-13: 978-8171826254
DESCRIPTION:
One of the greatest figures of wisdom and knowledge in the Indian history is Chanakya. Chanakya is regarded as a great thinker and diplomat in India who is traditionally identified as Kautilya or Vishnu Gupta. Originally a professor of economics and political science at the ancient Takshashila University, Chanakya managed the first Maurya Emperor Chandragupta's rise to power at a young age. Instead of acquiring the seat of kingdom for himself, he crowned Chandragupta Maurya as the emperor and served as his chief advisor. Chanakya Neeti is a treatise on the ideal way of life, and shows Chanakya's deep study of the Indian way of life. These practical and powerful strategies provide a path to live an orderly and planned life. If these strategies are followed in any sphere of life, victory is certain. Chanakya also developed Neeti-Sutras (aphorisms ? pithy sentences) that tell people how they should behave. Chanakya used these sutras to groom Chandragupta and other selected disciples in the art of ruling a kingdom. But these sutras are also relevant in this modern age and are very useful for us. For the first time, Chanakya Neeti and Chanakya Sutras are compiled in this book to make Chanakya?s invaluable wisdom easily available to the common readers. This book presents Chanakya?s powerful strategies and principles in a very lucid manner for the benefit of our valuable readers.
$21

Recently viewed